Beautiful Poem about Girls

                        घर की चहल पहल होती है बेटिया ,

                         जीवन में खिलता कमल होती है बेटिया। 

                         कभी गुनगुनी सुहानी धुप होती है बेटिया ,

                         कभी चंदा सी शीतल होती है बेटिया।।

                         शिछा गुण संस्कार से भरी होती है बेटिया ,

                         बेटो से भी अच्छी होती है बेटिया।।

                          सहारा दो अगर विशवास का तो ,

                          पावन गंगाजल सी होती है बेटिया।। 

                          बेटा वारिस होता है तो ,

                          पारस होती है बेटिया।।

                          प्कृति के सद्गुण सींचो तो ,

                          प्रकृति सी निस्छल होती है बेटिया।।

                          बेटा घर का वंश होता है तो ,

                          बेटिया घर का अंश होती है।

                         बेटा घर का भाग्य होता है तो ,

                          बेटिया घर की विधाता होती है। 

                          बेटा घर का आन होता है तो ,

                          बेटिया घर की शान होती है। 

                          बेटा घर का मान होता है तो ,

                          बेटिया घर की गुमान होती है। 

                          बेटा घर का संस्कार होता है तो ,

                          बेटिया घर की संस्कृति होती है। 

                          बेटा घर का दावा होता है तो ,

                          बेटिया घर की दुआ होती है। 

                          बेटा घर का गीत होता है तो ,

                          बेटिया घर की संगीत होती है। 

                          बेटा घर का प्रेम होता है तो ,

                           बेटिया घर की पुजा होती है। 

                           अरे फिर क्यों डरते हो पैदा करने से ,

                           अरे आने वाला कल होती है बेटिया……… 

                  

Leave a Comment